निपाह वायरस क्या है ? जाने वायरस के (फैलने का कारण) ( लक्षण)( बचाव ) ओर( जांच)।


0
Categories : समाचार

निपाह वायरस क्या है Nipah Virus Kya Hai In Hindi .

निपाह वायरस क्या है :-

निपाह वायरस  एक ऐसा  वायरस है जिसकी अभी तक दवा या एन्टीडोस नहीं बना है शनिबार को केरल के कोझिकोड़े मे निपाह  वायरस से संक्रमित एक 12 वर्षीय लड़के को शासकीय अस्पताल मे भर्ती किया गया है |जहां पर रविवार को उस बालक की मृत्यु हो गई ।

निपह वायरस क्या है |Nipah Virus Kya Hai In Hindi .
निपह वायरस क्या है |Nipah Virus Kya Hai In Hindi .

निपाह वायरस कैसे फैलता है।:-

निपाह वायरस एक प्रकार का का इंफ़ेक्शन वाला वायरस है जोकि प्राया मनुष्य से दूसरे मनुष्य में फैलता है यह वायरस चमगादड़ द्वारा खाए हुए फल एवं सूअर के द्वारा फैलता है इस वायरस के संपर्क में आने से वाले मनुष्य में यह वायरस के कारण इन्फेक्शन हो जाता है और फिर वह मनुष्य जिस वस्तु को भी छूता है वह वस्तु भी इनफेक्टेड हो जाती है इस कारण इस वायरस को आपस में एक दूसरे से कनेक्ट होने पर फैलता है। वायरस का फैलने का मुख्य कारण चमगादड़ द्वारा खाए हुए फल एवं द्वारा फैलाया हुआ माना गया है मेडिकल स्टडी में इस बात के प्रमाण मिले हैं कि यह वायरस चमगादड़ द्वारा खाए हुए  फल का उपयोग करने से या उनको छू लेने से यह वायरस मनुष्य में फैलता है और मनुष्य में यह 2018 में पाया गया है इस वायरस का अभी तक कोई भी एंटीबायोटिक दवा नहीं बनाई गई है इस कारण यह वायरस  अभी एक खतरनाक स्थिति का वायरस है और इस वायरस से बचने के लिए अभी साफ सफाई एवं आपस में दूरी बनाए रखकर ही  बचा जा सकता है। यह वायरस संक्रमित सूअर  चमगादड़ और चमगादड़ द्वारा खाए हुए फलों को यदि किसी व्यक्ति द्वारा खाया जाता है तो वह व्यक्ति भी संक्रमित हो जाता है संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग की गई अन्य वस्तुओं को कोई स्वस्थय  व्यक्ति छू लेता है या उपयोग कर लेता है तो वह व्यक्ति भी संक्रमित हो जाता है इस तरह से यह निपाह वायरस भी कोरोना वायरस की ही तरह फैलता है और यदि कोई व्यक्ति निपाह वायरस से संक्रमित होकर उसकी मृत्यु हो जाती है तो उसको भी उसी तरह कोविड-19 की तरह उसका अंतिम संस्कार covid -19  की गाइडलाइन के तहत किया जाता है ।

निपाह वायरस से बचाव और सुरक्षा :-

निपाह वायरस एक प्रकार का इंफ़ेक्शन वायरस है जो कि एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य में फैलता है इस वायरस से बचाव के लिए अभी तक कोई भी एंटीबायोटिक नहीं बना है लेकिन फिर भी इस वायरस से बचाव के लिए निम्न बातों का ध्यान रखना होगा

1 साबुन और पानी से हमेशा हाथ धोते रहिए |

2 कच्चे खजूर या उसके रस साड़ी आदि को पीने से बचने बचना चाहिए |

3 किसी भी प्रकार के मौसमी फलों को खाने से पहले उन को अच्छी तरीके से साफ पानी से धो लेना चाहिए |

4 किसी भी प्रकार के जानवरों या पशुओं पक्षियों को देखभाल करने के बाद अपने हाथों को धो लेना साबुन से धो लेना चाहिए या की स्नान कर लेना चाहिए |

5 किसी भी जगह जाने से पहले अपने चेहरे को कोरोना की तरह मास्क से कवर कर कर ही बाहर जाना चाहिए।

निपाह वायरस का इलाज क्या है :-

निपाह वायरस एक प्रकार का वायरस है जो कि चमगादड़ द्वारा खाए हुए फल एवं सूअरो से फैलता है इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सर्दी खांसी तेज बुखार आदि जैसे लक्षण दिखाई देते हैं एवं कुछ समय बाद यदि इन लक्षणों में तीव्रता हो जाती है तो पति की मौत भी हो सकती है इस वायरस का अभी तक किस-किस कोई भी प्रकार का एंटीबायोटिक तैयार नहीं किया गया है इस कारण से यह वायरस लाइलाज है इसका अभी तक कोई भी इलाज नहीं है केवल मामूली से होने वाले सर्दी जुकाम खांसी का ही इलाज जो कि एक वायरल इंफेक्शन होता है किया जा सकता है लेकिन निपाह वायरस की पुष्टि होने के बाद अभी तक इस वायरस का कोई भी एंटी डोज तैयार नहीं है इस बार इसकी जांच भी कोविड-19 की तरह आरटी पीसीआर टेस्ट की तरह किया जाता है पुलिस टॉ

निपाह वायरस की जांच कैसे की जाती है :-

निपाह वायरस भी कोविड-19 वायरस की ही तरह है अतः इस बार इसकी जांच भी कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए की जाती है इस बार इसकी जांच के लिए rt-pcr टेस्ट एवं बलगम एवं खून की जांच की जाती है एवं एंटीबॉडी टेस्ट के लिए एलिजा की भी एलिजा भी किया जाता है इस वायरस का प्रभावी कोविड-19 की तरह 7 से 14 दिन या अधिकतम 45 दिन भी हो सकता है इतने दिनों के अंतर यह संक्रमण अपने पूर्ण स्तर पर आ जाता है जिसमें व्यक्ति पूर्णता संक्रमित हो जाता है।

निपाह वायरस के लक्षण क्या है :-

निपाह  वायरस भी कोविड-19 की तरह का एक वायरस है तथा इसके लक्षण भी कुछ कुछ कोविड-19 की ही तरह पाए जाते हैं जैसे कि

नंबर 1 कब के साथ बुखार आना ठंड लगना ।

नंबर 2 सांस नली में संक्रमण हो जाने से सांस लेने में तकलीफ होना ।

नंबर 3 सर दर्द बुखार खराश नींद की समस्या उल्टी होना ।

नंबर 4 निमोनिया के लक्षण भी इस वायरस में दिखाई देते हैं।

हमारे अन्य लेख यहा है 

(FAQ)

Q1. निपाह वायरस क्या है ?

ANS. निपाह वायरस एक प्रकार का का इंफ़ेक्शन वाला वायरस है जोकि प्राया मनुष्य से दूसरे मनुष्य में फैलता है यह वायरस चमगादड़ द्वारा खाए हुए फल एवं सूअर के द्वारा फैलता है

Q2. पाह वायरस कैसे फैलता है ?

ANS. निपाह वायरस एक प्रकार का का इंफ़ेक्शन वाला वायरस है यह वायरस चमगादड़ द्वारा खाए हुए फल एवं सूअर के द्वारा फैलता है इस वायरस के संपर्क में आने से वाले मनुष्य में यह वायरस के कारण इन्फेक्शन हो जाता है और फिर वह मनुष्य जिस वस्तु को भी छूता है वह वस्तु भी इनफेक्टेड हो जाती है इस कारण इस वायरस को आपस में एक दूसरे से कनेक्ट होने पर फैलता है।

Q3. निपाह वायरस के लक्षण क्या है ?

ANS. निपाह  वायरस भी कोविड-19 की तरह का एक वायरस है तथा इसके लक्षण भी कुछ कुछ कोविड-19 की ही तरह पाए जाते हैं जैसे कि कब के साथ बुखार आना ठंड लगना । सांस नली में संक्रमण हो जाने से सांस लेने में तकलीफ होना । सर दर्द बुखार खराश नींद की समस्या उल्टी होना ।

Q4. निपाह वायरस की जांच कैसे की जाती है ?

ANS. निपाह वायरस भी कोविड-19 वायरस की ही तरह है अतः इस बार इसकी जांच भी कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए की जाती है

Q5. निपाह वायरस का इलाज क्या है ?

ANS. इस वायरस का अभी तक किस-किस कोई भी प्रकार का एंटीबायोटिक तैयार नहीं किया गया है इस कारण से यह वायरस लाइलाज है केबल इस दोरान आने बाले लक्षणों जैसे सर्दी बुखार का हि ईलाज किया जा सकता है |

विश्व योग दिवस 21 जून 2021 world yog day 21 june 2021

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *